April 10, 2021

Yeh Reshmi Zulfen Lyrics – Mohammad Rafi – DO RAASTE

Yeh Reshmi Zulfen Lyrics - Mohammad Rafi - DO RAASTE

Yeh Reshmi Zulfen Lyrics song singing Mohammed Rafi from the movie DO RAASTE. Yeh Reshmi Zulfen lyrics penned by Anand Bakshi and music composed by Laxmikant Pyarelal. the song was released on 5th December 1969 by Saregama.

Singer:-Mohd Rafi
Lyrics:-Anand Bakshi
Music:-Laxmikant Pyarelal

Yeh Reshmi Zulfen Lyrics

Yeh Reshami Zulfen
Yeh Sharabatii Aankhen
Inhen Dekh Kar Jee
Rahe Hain Sabhi
Inhen Dekh Kar Jee
Rahe Hain Sabhi

Yeh Reshami Zulfen
Yeh Sharabatii Aankhen
Inhen Dekh Kar Jee
Rahe Hain Sabhi
Inhen Dekh Kar Jee
Rahe Hain Sabhi

Jo Yeh Aankhe Sharam Se Jhuk Jayegi
Jo Yeh Aankhe Sharam Se Jhuk Jayegi
Saarii Baate Yahi Bas Ruk Jayegi

Chup Rahanaa Yeh Afasana
Koii Inako naa Batalanaa Ki
Inhen Dekh Kar Pee
Rahe Hain Sabhi
Rahe Hain Sabhi

Yeh Reshamii Zulfen
Yeh Sharabatii Aankhen
Inhen Dekh Kar Jee
Rahe Hain Sabhi
Inhen Dekh Kar Jee
Rahe Hain Sabhi

Zulfe Magarur Itani Ho Jayengi
Zulfe Magarur Itani Ho Jayengi
Dil To Tadapaaengii
Jee Ko Tarasaaengii
Yeh Kar Dengii Diivaanaa
Koii Inako naa Batalaanaa Ki
Inhen Dekh Kar Jii
Rahe Hain Sabhi
Inhen Dekh Kar Jii
Rahe Hain Sabhi

Saare inki shikayat karte hai
Saare inki shikayat karte hai
Phir bhi inse mohabbat karte hai

Yeh kya jaadu hai jane
Phir chak girewan deewane
Inhe dekh kar see rahen hai sabhi
Inhe dekh kar see rahen hai sabhi

Yeh Reshami Zulfen
Yeh Sharabatii Aankhen
Inhen Dekh Kar Jee
Rahe Hain Sabhi
Inhen Dekh Kar Jee
Rahe Hain Sabhi

ये रेशमी ज़ुल्फ़ें, ये शरबती आँखें
इन्हें देख कर जी रहे हैं सभी
इन्हें देख कर जी रहे हैं सभी

ये रेशमी ज़ुल्फ़ें, ये शरबती आँखें
इन्हें देख कर जी रहे हैं सभी
इन्हें देख कर जी रहे हैं सभी

जो ये आँखे शरम से, झुक जाएंगी
जो ये आँखे शरम से, झुक जाएंगी
सारी बातें यहीं बस, रुक जाएंगी

चुप रहना ये अफ़साना
कोई इनको ना बतलाना कि
इन्हें देख कर जी रहे हैं सभी
इन्हें देख कर जी रहे हैं सभी

ये रेशमी ज़ुल्फ़ें, ये शरबती आँखें
इन्हें देख कर जी रहे हैं सभी
इन्हें देख कर जी रहे हैं सभी

जुल्फे मगरूर इतनी हो जाएगी
जुल्फे मगरूर इतनी हो जाएगी
दिल को तड़पाएगी
जी को तरसाएगी

यह कर देंगी दीवाना
कोई इनको ना बतलाना
के इन्हे देखकर जी रहे हैं सभी
इन्हे देखकर जी रहे हैं सभी

सारे इनकी शिकायत करते है
सारे इनकी शिकायत करते है
फिर भी इनसे मोहबात करते है
ये क्या जादू है जाने फिरे चाक गिरे वो दीवाने
इन्हे देखकर सी रहे हैं सभी
इन्हे देखकर सी रहे हैं सभी

ये रेशमी ज़ुल्फ़ें, ये शरबती आँखें
इन्हें देख कर जी रहे हैं सभी
इन्हें देख कर जी रहे हैं सभी