Yeh Chand Sa Roshan Chehra Lyrics – Kashmir Ki Kali

Yeh Chand Sa Roshan Chehra lyrics song singing by Mohammed Rafi from the Hindi movie Kashmir Ki Kali (1964) featured Shammi Kapoor, Sharmila Tagore. Yeh Chaand Sa Roshan Chehra lyrics written by S. H. Bihari and music composed by O. P. Nayyar song was released on 24th April 1964 by Saregama.

Singer:-Mohammad Rafi
Music:-O. P. Nayyar
Lyrics:-S. H. Bihari
https://www.youtube.com/watch?v=lT_oajh4ttk

Yeh Chaand Sa Roshan Chehra Lyrics

Yeh chand sa roshan chehra
julfo ka rang sunehra
Yeh jheel si neeli aankhein
Koi raaz hai inmein gehra
Tareef karu kya uski
jisne tumhein banaya

Yeh chand sa roshan chehra
julfo ka rang sunehra
Yeh jheel si neeli aankhein
Koi raaz hai inmein gehra
Tareef karu kya uski
jisne tumhein banaya

Ek cheez qayamat si hai
Logon se suna karte the
Tumhein dekh ke maine mana
Woh theek kaha karte the
Woh theek kaha karte the

Hai chaal mein teri zalim
Kuchh aisi balaa ka jaadu
Sau baar sambhala dil ko
Par hoke raha bekabu
Tareef karoon kya uski
jisne tumhein banaya

Yeh chand sa roshan chehra
julfo ka rang sunehra
Yeh jheel si neeli aankhein
Koi raaz hai inmein gehra
Tareef karu kya uski
jisne tumhein banaya

Har subah kiran ki laali
hai rang tere gaalon ka
Har shaam ki chadar kaali
saya hai tere baalon ka

Har subah kiran ki laali
hai rang tere gaalon ka
Har shaam ki chadar kaali
saya hai tere baalon ka
Saya hai tere baalon ka

Tu balkhaati ek nadiya
har mauj teri angdaayi
Jo in maujon mein dooba
usne hi duniya paayi
Tareef karoon kya uski
jisne tumhein banaya

Yeh chand sa roshan chehra
julfo ka rang sunehra
Yeh jheel si neeli aankhein
Koi raaz hai inmein gehra
Tareef karu kya uski
jisne tumhein banaya

Main khoj mein hoon manzil ke
Aur manzil paas hai mere
Mukhde se hata do aanchal
Ho jaayein door andhere
Ho jaayein door andhere

Mana ke yeh jalwe tere
Kar denge mujhe deewana
Jee bhar ke zara main dekhoon
Andaz tera mastana
Tareef karoon kya uski
jisne tumhein banaya

Yeh chand sa roshan chehra
julfo ka rang sunehra
Yeh jheel si neeli aankhein
Koi raaz hai inmein gehra

Tareef karu kya uski
jisne tumhein banaya (x6)

ये चांद सा रोशन चेहरा
ज़ुल्फ़ों का रंग सुनहरा
ये झील सी नीली आँखें
कोई राज़ है इनमें गहरा
तारीफ़ करूँ क्या उसकी
जिसने तुम्हें बनाया

ये चांद सा रोशन चेहरा
ज़ुल्फ़ों का रंग सुनहरा
ये झील सी नीली आँखें
कोई राज़ है इनमें गहरा
तारीफ़ करूँ क्या उसकी
जिसने तुम्हें बनाया

एक चीज़ क़यामत सी है
लोगों से सुना करते थे
तुम्हे देखके मैने माना
वो ठीक कहा करते थे
वो ठीक कहा करते थे

है चाल में तेरी ज़ालिम
कुछ ऐसी बला का जादू
सौ बार सम्भाला दिल को
पर होके रहा बेकाबू
तारीफ़ करूँ क्या उसकी
जिसने तुम्हें बनाया

ये चांद सा रोशन चेहरा
ज़ुल्फ़ों का रंग सुनहरा
ये झील सी नीली आँखें
कोई राज़ है इनमें गहरा
तारीफ़ करूँ क्या उसकी
जिसने तुम्हें बनाया

हर सुबह किरन की लाली
है रंग तेरे गालों का
हर शाम की चादर काली
साया है तेरे बालों का
साया है तेरे बालों का (x2)

तू बलखाती एक नदिया
हर मौज तेरी अंगड़ाई
जो इन मौजों में डूबा
उसने ही दुनिया पाई
तारीफ़ करूँ क्या उसकी
जिसने तुम्हें बनाया

ये चांद सा रोशन चेहरा
ज़ुल्फ़ों का रंग सुनहरा
ये झील सी नीली आँखें
कोई राज़ है इनमें गहरा
तारीफ़ करूँ क्या उसकी
जिसने तुम्हें बनाया

मैं खोज में हूँ मंज़िल के
और मंज़िल पास है मेरे
मुखड़े से हटा दो आंचल
हो जाएं दूर अंधेरे
हो जाएं दूर अंधेरे

माना के ये जलवे तेरे
कर देंगे मुझे दीवाना
जी भर के ज़रा मैं देखूँ
अंदाज़ तेरा मस्ताना
तारीफ़ करूँ क्या उसकी
जिसने तुम्हें बनाया

तारीफ़ करूँ क्या उसकी
जिसने तुम्हें बनाया (x6)