April 16, 2021

Ye Dua Hai Meri Rab Se Lyrics – Meri Aashiqui – Jubin Nautiyal

Ye Dua Hai Meri Rab Se Lyrics - Meri Aashiqui - Jubin Nautiyal

Ye Dua Hai Meri Rab Se Lyrics song singing by Jubin Nautiyal and features Jubin and Ihana Dhillon. Meri Aashiqui Lyrics were written by Rashmi Virag and the music was composed by Rochak Kohli.

Singer:-Jubin Nautiyal
Lyrics:-Rashmi Virag
Music:-Rochak Kohli

Ye Dua Hai Meri Rab Se Lyrics

Baarishein aa gayi aur chali bhi gayi
Koyi dil mein siwa tere aaya nahi
Jab bhi sajda kiya naam tera liya
Bhool jaana tujhe humko aaya nahi

Dil to hai per jaane kyun
Dhadka hi nahi hai kab se

Yeh dua hai meri rab se
Yeh dua hai meri rab se
Tujhe aashiqon mein sabse
Meri aashiqui pasand aaye
Meri aashiqui pasand aaye

Yeh dua hai meri rab se
Tujhe aashiqon mein sabse
Meri aashiqui pasand aaye
Meri aashiqui pasand aaye
Meri aashiqui pasand aaye

Tum hi ab kuch kaho
Suljhaun kaise yeh mushkil
Haan tum hi ab kuchh kaho
Suljhaun kaise yeh mushkil

Jhooth bol ke hi
Rakh lo na tum mera yeh dil
Chaho to tod dena
Toota hi nahi yeh kab se

Yeh dua hai meri rab se
Tujhe aashiqon mein sabse
Meri aashiqui pasand aaye
Meri aashiqui pasand aaye
Meri aashiqui pasand aaye

Katra katra jee raha hoon
Lamha lamha mar raha hoon
Kaise khud ko main sambhalu tu bata
Tere bin hai soona soona
Mere dil ka kona kona
Tu kya jaane kaise itne din jiya

Kaise dil ko
Kaise dil ko main manau
Naraaz pada hai kab se

Yeh dua hai meri rab se
Tujhe aashiqon mein sabse
Meri aashiqui pasand aaye
Meri aashiqui pasand aaye
Meri aashiqui pasand aaye
Meri aashiqui pasand aaye

READ More Lyrics:-  KYON Lyrics - B Praak - Kunaal Vermaa - Payal Dev

बारिशें आ गयी और चली भी गयी
कोई दिल में सिवा तेरे आया नहीं
जब भी सजदा किया नाम तेरा लिया
भूल जाना तुझे हमको आया नहीं

दिल तो है पर जाने क्यूँ
धड़का ही नहीं है कब से
ये दुआ है मेरी रब से

ये दुआ है मेरी रब से
तुझे आशिकों में सबसे
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये

ये दुआ है मेरी रब से
तुझे आशिकों में सबसे
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये

तुम ही अब कुछ कहो
सुलझाऊँ कैसे ये मुश्किल
हाँ.. तुम ही अब कुछ कहो
सुलझाऊँ कैसे ये मुश्किल
झूठ बोल के ही
रख लो ना तुम मेरा ये दिल

चाहो तो तोड़ देना
टूटा ही नहीं ये कब से

ये दुआ है मेरी रब से
तुझे आशिकों में सबसे
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये

कतरा कतरा जी रहा हूँ
लम्हा लम्हा मर रहा हूँ
कैसे खुद को मैं संभालूं तू बता

तेरे बिन है सुना सुना
मेरे दिल का कोना कोना
तू क्या जाने कैसे इतने दिन जिया

कैसे दिल को
कैसे दिल को मैं मनाऊँ
नाराज़ पड़ा है कब से

ये दुआ है मेरी रब से
तुझे आशिकों में सबसे
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये