May 8, 2021

Sun Mere Humsafar Lyrics – Badrinath Ki Dulhaniya – Akhil

Sun Mere Humsafar Lyrics - Badrinath Ki Dulhaniya - Akhil

Sun Mere Humsafar Lyrics Song Singing by Akhil Sachdeva from the romantic Bollywood movie Badrinath Ki Dulhaniya features Varun Dhawan and Alia Bhatt in the lead role. Muskurana Bhi Tujhi Se Sikha Hai Lyrics are written by Akhil Sachdeva and song was released on 7th February 2017 by T-Series.

Singer:Akhil Sachdeva
Lyrics:Akhil Sachdeva
Music:Akhil Sachdeva

Sun Mere Humsafar Lyrics

Sun mere humsafar
Kya tujhe itni si bhi khabar
Sun mere humsafar
Kya tujhe itni si bhi khabar
Ki teri saanse chalti jidhar

Rahunga bas wahin umrr bhar
Rahunga bas wahin umrr bhar haaye

Jitni haseen ye mulakatein hain
Unse bhi pyari teri baatein hain
Baaton mein teri jo kho jaate hain
Aaun na hosh mein main kabhi
Baahon mein hai teri zindagi haaye

Sun mere humsafar
Kya tujhe itni si bhi khabar

Zaalima tere ishq main
Ho gayi aa kaml haaye
Main toh yun khada
Kis soch mein pada tha
Kaise jee raha tha main deewana

Chhup ke se aake tune
Dil mein samaa ke tune
Chhed diya kaisa ye fasaana

muskurana bhi tujhi se sikha hai
Dil lagane ka tu hi tareeka hai
Aitbaar bhi tujhi se hota hai
Aaun na hosh mein main kabhi
Baahon mein hai teri zindagi haaye

Hai nahi tha pata
Ke tujhe maan lunga Khuda
Ki teri galiyon mein iss qadar
Aaunga ab har pehar

Sun mere humsafar
Kya tujhe itni si bhi khabar
Ki teri saansein chalti jidhar
Rahunga bas wahi umrr bhar
Rahunga bas wahi umrr bhar

सुन मेरे हमसफ़र
क्या तुझे इतनी सी भी खबर
सुन मेरे हमसफ़र
क्या तुझे इतनी सी भी खबर
की तेरी साँसे चलती जिधर

READ More Lyrics:-  Jeene Bhi De Lyrics - Yaseer Desai - Dil Sambhal Jaa Zara

रहूँगा बस वही उम्र भर
रहूँगा बस वही उम्र भर हाय

जितनी हसीं ये मुलाकातें हैं
उनसे भी प्यारी तेरी बातें हैं
बातों में तेरी जो खो जाते हैं
आऊँ ना होश में मैं कभी
बाहों में है तेरी ज़िन्दगी हाय

सुन मेरे हमसफ़र
क्या तुझे इतनी सी भी खबर

ज़ालिमा तेरे इश्क च मैं
हो गयीआं कमली हाय
मैं तो यूं खड़ा किस
किस् सोच में पड़ा था
कैसे जी रहा था मैं दीवाना

छूपके से आके तूने
दिल में समां के तूने
छेड़ दिया कैसा ये फ़साना

मुस्कुराना भी तुझी से सिखा है
दिल लगाने का तू ही तरीका है
ऐतबार भी तुझी से होता है
आऊँ ना होश में मैं कभी
बाहों में है तेरी ज़िन्दगी हाय

है नहीं था पता
के तुझे मान लूँगा खुदा
की तेरी गललियों में इस कदर
आऊंगा हर पहर

सुन मेरे हमसफ़र
क्या तुझे इतनी सी भी खबर
की तेरी साँसे चलती जिधर
रहूँगा बस वही उम्र भर
रहूँगा बस वही उम्र भर हाय

ज़ालिमा तेरे इश्क च मैं