Mere Samne Wali Khidki Mein Lyrics – Kishore Kumar- Padosan

Mere Samne Wali Khidki Mein Lyrics song singing by Kishore Kumar from the movie Padosan was released on 7th March 1968 by Saregama. Mere Samne Wali Khidki Mein Song Lyrics were written by Rajendra Krishan and the music was composed by Rahul Dev Burman.

Singer:-Kishore Kumar
Lyrics:-Rajendra Krishan
Music:-Rahul Dev Burman

Mere Samne Wali Khidki Mein Song Lyrics

Mere Saamne Wali Khidki Mein
Ek Chaand Ka Tukda Rehta Hai

Mere Saamne Waali Khidki Mein
Ek Chaand Ka Tukda Rehta Hai
Afsos Ye Hai Ke Vo Hamse
Kuchh Ukhda-Ukhda Rehta Hai

Mere Samne Wali Khidki Mein
Ek Chaand Ka Tukda Rehta Hai

Jis Roz Se Dekha Hai Usko
Hum Shamaa Jalaana Bhool Gaye
Dil Thaam Ke Aise Baithe Hain
Kahin Aana Jaana Bhool Gaye
Ab Aath Pahar In Aankhon Mein
Woh Chanchal Mukhda Rehta Hai

Mere Samne Wali Khidki Mein
Ek Chaand Ka Tukda Rehta Hai

Barsaat Bhi Aakar Chali Gayi
Baadal Bhi Garaj Kar Baras Gaye

Barsaat Bhi Aakar Chali Gayi
Baadal Bhi Garaj Kar Baras Gaye
Par Uski Ek Jhalak Ko Hum
Ae Husn Ke Maalik Taras Gaye
Kab Pyaas Bujhegi Aankhon Ki
Din Raat Ye Dukhda Rehta Hai

Mere Samne Wali Khidki Mein
Ek Chaand Ka Tukda Rehta Hai
Afsos Ye Hai Ke Woh Hamse
Kuchh Ukhda-Ukhda Rehta Hai

Mere Saamne Wali Khidki Mein
Ek Chaand Ka Tukda Rehta Hai

Mere Samne Wali Khidki Mein Lyrics Hindi

अरे हे.. ला ला ला ला ला ला ला ला
ला ला ला ला ला.. हम्म हे हे

मेरे सामने वाली खिड़की में
एक चांद का टुकड़ा रेहता है

मेरे सामने वाली खिड़की में
एक चांद का टुकड़ा रेहता है
अफ़सोस ये है के वो हमसे
कुछ उखड़ा-उखड़ा रहता है

मेरे सामने वाली खिड़की में
एक चांद का टुकड़ा रहता है

जिस रोज़ से देखा है उसको
हम शमां जलाना भूल गये
दिल थाम के ऐसे बैठे हैं
कहीं आना-जाना भूल गये
अब आठ पहर इन आँखों में
वो चंचल मुखड़ा रेहता है

मेरे सामने वाली खिड़की में
एक चांद का टुकड़ा रहता है

बरसात भी आकर चली गई
बादल भी गरज कर बरस गये
बरसात भी आकर चली गई
बादल भी गरज कर बरस गये

पर उसकी एक झलक को हम
ऐ हुस्न के मालिक तरस गये
कब प्यास बुझेगी आँखों की
दिन-रात ये दुखड़ा रहता है

मेरे सामने वाली खिड़की में
एक चांद का टुकड़ा रहता है
अफ़सोस ये है के वो हमसे
कुछ उखड़ा-उखड़ा रहता है

मेरे सामने वाली खिड़की में
एक चांद का टुकड़ा रहता है।