Khud Ko Tere Lyrics – 1920 Evil Returns – Mahalakshmi Iyer

Khud Ko Tere Lyrics Song singing by Mahalakshmi Iyer from the movie 1920 Evil Returns features Aftab Shivdasani, Tia Bajpai, Sagar Saikia, and Vidya Malvade. Khud Ko Tere Lyrics are written by Shakeel Azmi song was released on 2nd November 2012 by T-Series.

Singer:-Mahalakshmi Iyer
Lyrics:-Shakeel Azmi
Music:-Chirantan Bhatt

KHUD KO TERE LYRICS

Tum bhi tanha the
Hum bhi tanha the
Milke rone lage

O..tum bhi tanha the
Hum bhi tanha the
Milke rone lage
Ek jaise the dono ke gum
Dagaa hone lage

Tujhme muskurate hain
Tujhme gungunaate hain
Khud ko tere paas hi
Chhod aate hain
Tere hi khyalon mein
Doobe doobe jaate hain
Khud ko tere paas hi
Chhod aate hain

Thode bhare hain hum
Thode se khaali hain
Tum bhi ho uljhe se
Hum bhi sawaali hain

Kuch tum bhi kore ho
Kuch hum bhi saare hain
Ek aasmaan par hum
Do chand aadhe hain
Kam hai zameen bhi thodi
Kam asmaan hai
Lagta adhoora
Tum bin har jahaan hai

Apni har kami mein hum
Ab tujhe hi paate hain
Khud ko tere pass hi
Chhod aate hain

Jitni bhi viraani hai
Tujhse hi sajate hain
Khud ko tere paas hi
Chhod aate hain

Do raaz milte hain
Hum raaz bante hain
Sannate aise hi
Awaaz bante hain

Khamoshi mein teri
Meri sadaayen hain
Meri hatheli mein
Teri duayein hain
Ek saath tera ho toh
Sau manzile ho..
Tanhai teri
Meri mehfile hon

Hum teri nigahon se
Khud mein jhilmilate hain
Khud ko tere paas hi
Chhod aate hain
Tujhse apni raaton ko
Subah hum banate hain
Khud ko tere paas hi
Chhod aate hain

READ More Lyrics:-  Mehboob Mere Lyrics - Mukesh, Lata Mangeshkar - Patthar Ke Sanam

तुम भी तनहा थे
हम भी तनहा थे
मिलके रोने लगे

ओ..तुम भी तनहा थे
हम भी तनहा थे
मिलके रोने लगे
एक जैसे थे दोनों के गम
दागा होने लगे

तुझमे मुस्कुराते हैं
तुझमे गुनगुनाते हैं
खुद को तेरे पास ही
छोड़ आते हैं
तेरे ही ख्यालों में
डूबे डूबे जाते हैं
खुद को तेरे पास ही
छोड़ आते हैं

थोड़े भरे हैं हम
थोड़े से खाली हैं
तुम भी हो उलझे से
हम भी सवाली हैं

कुछ तुम भी कोरे हो
कुछ हम भी सारे हैं
एक आसमान पर हम
दो चाँद आधे हैं
काम है ज़मीन भी थोड़ी
कम आस्मां है
लगता अधूरा
तुम बिन हर जहां है

अपनी हर कमी.. में हम
अब तुझे ही पाते हैं
खुद को तेरे पास ही
छोड़ आते हैं

जितनी भी वीरानी है
तुझसे ही सजते हैं
खुद को तेरे पास ही
छोड़ आते हैं

दो राज़ मिलते हैं
हम राज़ बनते हैं
सन्नाटे ऐसे ही..
आवाज़ बनते हैं

ख़ामोशी में तेरी
मेरी सदायें हैं
मेरी हथेली में
तेरी दुआएं हैं
एक साथ तेरा हो तोह
सौ मंज़िले हो..
तन्हाई तेरी
मेरी महफिले हों

हम तेरी निगाहों से
खुद में झिलमिलाते हैं
खुद को तेरे पास ही
छोड़ आते हैं
तुझसे अपनी रातों को
सुबह हम बनाते हैं
खुद को तेरे पास ही
छोड़ आते हैं

close