August 9, 2020

Kab Se Kab Tak Lyrics – Ranveer Singh | Gully Boy

Kab Se Kab Tak Lyrics Ranveer Singh

Kab Se Kab Tak Lyrics Love song from the Bollywood Gully Boy movie. The song is singing by Ranveer Singh, Vibha Saraf and Kab Se Kab Tak Lyrics provided by Kaam Bhaari. The film Gully Boy features Ranveer Singh, Alia Bhatt in a lead role.

Singers:-Ranveer Singh, Vibha Saraf
Lyrics:-Kaam Bhaari, Ankur Tewari
Music:-Ankur Tewari, Karsh Kale

Kab Se Kab Tak Lyrics

English
Hindi

Koi toh ho jo humko humse mila de
Koi dikha de woh raashta
Koi toh ho jo humko ye bata de
Khud se hote hai khud kaise juda

Main sabse puch ke
Ye kab se kabtak humse ragbat
Main sabse puch ke
Ye kab se kabtak humse ragbat
Main sabse puch ke
Ye kab se kabtak humse ragbat
Aa kabse kabtak
Aa kabse kabtak humse ragbat

Main sochun har ghadi
Ye sar chadi talab hai ya
Ya inki bad-badi pe dil mera dhadak gaya
Ye besabar hai aaj kahna chahe tujhko kuch
Tu mujhse khush toh baatle na mera.

Humko humse milade
Humko humse milade

Hai doshti jo tumse karli kabse humne jabse
Yeh raushni hai tabse tut’ta re roothe rab se
Kya jadugari kari ye tune hai choori re
Choori kiya dil choori choori choori re

Kya shapne humne bhi saja rakhe hai khoobsurat
Aashiqui hai hadd se jyada ishq mein hoon tere murat
Mila de humko humse, gum ko dhangse mahsoos karun
Tere sang main mere sapne aapne aapne mahfooz rakhun

Mujhko chahiye tere ishq ka nasha
Aur tujhko chahiye mere dil ke tukdo ka maza
Dekho mukhro na bata de mujhko haal-e-dil tumhara bhi
Thukro na yun rishte ko tum jaano dil hamara bhi

Main sabse puch ke
Ye kab se kabtak humse ragbat
Main sabse puch ke
Ye kab se kabtak humse ragbat
Main sabse puch ke
Ye kab se kabtak humse ragbat
Aa kabse kabtak
Aa kabse kabtak humse ragbat

Zindagi zahar ka pyala pee liya piya ke naam
Jee gaye toh duniya haare, gir gaye gira ke jaam
Mushkilo se mushkilo ki mushkile sambhali hai
Mushkilo ki kazri gaake kastiyan sanwari hai

Humne bhi wafa ki, humne-humne bhi daga ki hai
Humne hi judai jiti, humne sada ki hai
Humne tujhko paake khoya
Humne tujhko khoke paaya

Humne tere waaste ye likh di hai kawali ke
Nazron ke ye kaale ghere inme hi sama loon na
Aapne mein bana loon inko
Dedun mujhko taalo na

Main chhod jata duniya laapata sa ho jo jaata
To kya tu khojta, main sapne odh soo jo jata
Main rok paata khudko is jhamele se toh
Kahta na yun tujhko ki tu mujhko aab akele chhod

Main sabse puch ke
Ye kab se kabtak humse ragbat
Main sabse puch ke
Ye kab se kabtak humse ragbat
Aa kabse kabtak
Aa kabse kabtak humse ragbat.

कोई तो हो जो हमको हमसे मिला दे
कोई दिखा दे वो रास्ता
कोई तो हो जो हमको ये बता दे
खुद से होते हैं खुद कैसे जुदा

मैंने सबसे पूछ के ये
कब से कब तक हमसे रगबत
मैंने सबसे पूछ के ये
कब से कब तक हमसे रगबत
मैंने सबसे पूछ के ये
कब से कब तक हमसे रगबत
अब कब से कब तक
अब कब से कब तक हमसे रगबत

मैं सोचूं हर घड़ी
ये सर चढ़ी तलब है या
या इनकी बाद बड़ी पे दिल मेरा धड़क गया
ये बेसबर हैं आज
हिन्दीट्रैक्स
कहना चाहें तुझको कुछ
तू मुझसे खुश तो बाँट ले ना मेरा

हमको हमसे मिला दे
हमको हमसे मिला दे

है दोस्ती जो तुमसे कर लि
कब से हमने जैसे
ये रौशनी है तब से
टूटे तारे रूठे रब से
क्या जादूगरी करी तूने है छोरी रे
चोरी किया दिल चोरी चोरी चोरी रे

क्या सपने हिमने भी
सज़ा रखे हैं ख़ूबसूरत
आशिकी है हद से ज्यादा
इश्क में हूँ तेरे मूरत
मिला दे हमको हमसे
गम को ढंग से महसूस करूँ
तेरे संग मैं तेरे सपने
अपने महफूज़ रखूं
मुझको चाहिए तेरा इश्क का नशा
और तुझको चाहिए
मेरे दिल के टुकड़ों का मजा
देखो मुझको ना बता दे मुझको
हाल-ए-दिल तुम्हारा भी
ठुकराओ ना यूं रिश्ते को
तो जानो दिल हमारा भी


मैंने सबसे पुछा के ये
कब से कब तक हमसे रगबत
मैंने सबसे पुछा के ये
कब से कब तक हमसे रगबत
मैंने सबसे पुछा के ये
कब से कब तक हमसे रगबत

अब कब से कब तक
आ कब से कब तक हमसे रगबत

ज़िन्दगी ज़हर का प्याला
पी लिया पिया के नाम
जी गए तो दुनिया हारे
गिर गए गिरा के जाम
मुश्किलों से मुश्किलों की
मुश्किलें संभाली है
मुश्किलों की कजरी गा के
कश्तियाँ संवारी हैं

हमने भी वफ़ा की हमने
हमने भी दगा की है
हमने ही जुदाई जीती
हमने ही सदा की है
हमने तुझको पाके खोया
हमने तुझको खो के पाया
हमने तेरे वास्ते
ये लिख दी है कवाली के
नजरों के ये काले घेरे
इनमें ही समा लो ना
अपने मैं बना लूं ना
दे दो मुझको तालों ना

मैं छोड़ जाता दुनिया
लापता सा हो जो जाता
तो क्या तू खोजता
मैं रोक पाता खुद को
इस झमेले से तो
कहता ना यूं तुझको
के तू मुझको अब अकेले छोड़

मैंने सबसे पुछा के ये
कब से कब तक हमसे रगबत
मैंने सबसे पुछा के ये
कब से कब तक हमसे रगबत
मैंने सबसे पुछा के ये
कब से कब तक हमसे रगबत

अब कब से कब तक
अब कब से कब तक हमसे रगबत

Read more lyrics from Gully boy:-

Kab Se Kab Tak Lyrics – Gully Boy

Asli Hip Hop Lyrics – Gully Boy

Sher Aaya Sher Lyrics – Gully Boy

Jingostan Lyrics – Gully Boy