October 25, 2020

Jeene Bhi De Lyrics – Yaseer Desai – Dil Sambhal Jaa Zara

Jeene Bhi De Lyrics song singing by Yaseer Desai from Star Plus Serial Dil Sambhal Jaa Zara. Jeene Bhi De Lyrics written by Shakeel Azmi and music is composed by Harish Sagane, Starring Sanjay Kapoor, Smriti Kalra.

Singer:-Yaseer Desai
Lyrics:-Shakeel Azmi
Music:-Harish Sagane

Jeene Bhi De Lyrics

English
Hindi

Jeene Bhi De Duniya Humein
Ilzaam Na Laga
Ek Baar To Karte Hai Sab
Koi Haseen Khata

Warna Koi Kaise Bhala
Chahe Kisi Ko Bepanah
Aye Zindagi Tuhi Bata
Kyun Ishq Hai Gunaah

Jeene Bhi De Duniya Humein
Ilzaam Na Laga
Ek Baar To Karte Hai Sab
Koi Haseen Khata

Khud Se He Karke Guftagu
Koi Kaise Jiye
Ishq To Lazmi Sa Hai
Zindagi Ke Liye

Khud Se He Karke Guftagu
Koi Kaise Jiye
Ishq To Lazmi Sa Hai
Zindagi Ke Liye

Dil Kya Kare Dil Ko Agar
Accha Lage Koi
Jhootha Sahi Dil Ko Magar
Saccha Lage Koi

Jeene Bhi De Duniya Humein
Ilzaam Na Laga
Ek Baar To Karte Hai Sab
Koi Haseen Khata

Warna Koi Kaise Bhala
Chahe Kisi Ko Bepanah
Aye Zindagi Tuhi Bata
Kyun Ishq Hai Gunaah

Dil Ko Bhi Udne Ke Liye
Aasmaa Chahiye
Khulti Ho Jinme Khikiyaan
Wo Makaan Chahiye

Dil Ko Bhi Udne Ke Liye
Aasmaa Chahiye
Khulti Ho Jinme Khikiyaan
Wo Makaan Chahiye

Darwaze Se Nikle Zara
Bahar Ko Rahguzar
Har Mod Par Jo Sath Ho
Aisa Ho Humsafar

Jeene Bhi De Duniya Humein
Ilzaam Na Laga
Ek Baar To Karte Hai Sab
Koi Haseen Khata

Warna Koi Kaise Bhala
Chahe Kisi Ko Bepanah
Aye Zindagi Tuhi Bata
Kyun Ishq Hai Gunaah

जीने भी दे दुनिया हमें
इल्ज़ाम ना लगा
इक बार तो करते हैं सब
कोई हसीं खता

वरना कोई कैसे भला
चाहे किसी को बेपनाह
ऐ ज़िन्दगी तू ही बता
क्यों इश्क़ है गुनाह

जीने भी दे दुनिया हमें
इल्ज़ाम ना लगा
इक बार तो करते हैं
सब कोई हसीं खता

खुद से ही करके गुफ्तगू
कोई कैसे जीये
इश्क़ तो लाज़मी सा है
ज़िन्दगी के लिए

खुद से ही करके गुफ्तगू
कोई कैसे जीये
इश्क़ तो लाज़मी सा है
ज़िन्दगी के लिए

दिल क्या करे दिल को
अगर अच्छा लगे कोई
झूठा-सही दिल को मगर
सच्चा लगे कोई

जीने भी दे दुनिया हमें
इल्ज़ाम ना लगा
इक बार तो करते हैं सब
कोई हसीं खता

वरना कोई कैसे भला
चाहे किसी को बेपनाह
ऐ ज़िन्दगी तू ही बता
क्यों इश्क़ है गुनाह

दिल को भी उड़ने के लिए
आसमां चाहिए
खुलती हो जिनमे खिड़किया
वो मकां चाहिए

दिल को भी उड़ने के लिए
आसमां चाहिए
खुलती हो जिनमे खिड़किया
वो मकां चाहिए

दरवाज़े से निकले ज़रा
बहार को रहगुज़र
हर मोड़ पे जो साथ हो
ऐसा हो हमसफ़र

जीने भी दे दुनिया हमें
इल्ज़ाम ना लगा
इक बार तो करते हैं सब
कोई हसीं खता

वरना कोई कैसे भला
चाहे किसी को बेपनाह
ऐ ज़िन्दगी तू ही बता
क्यों इश्क़ है गुनाह

READ More Lyrics:-  Aaj kal tere mere pyaar ke charche Lyrics - Brahmachari (1968)