August 9, 2020

Chala Jaata Hoon Lyrics – Kishore Kumar – Mere Jeevan Saathi

Chala Jaata Hoon Lyrics - Kishore Kumar

Chala Jaata Hoon Lyrics song singing by Kishore Kumar from the movie Mere Jeevan Saathi 1972. Chala Jaata Hoon Lyrics written by Majrooh Sultanpuri, its music is composed by R D Burman, the song was released on 19th September 1972 by Saregama.

Singer:-Kishore Kumar
Music:-R. D. Burman
Lyrics:-Majrooh Sultanpuri

Chala Jaata Hoon Lyrics

English
Hindi

Chala jaata hoon kisi ki dhun mein
Dhadakte dil ke taraane liye
Chala jaata hoon kisi ki dhun mein
Dhadakte dil ke taraane liye

Milan ki masti bhari aankhon mein
Hazaron sapne suhaane liye
Ho chala jaata hoon kisi ki dhun mein
Dhadakte dil ke taraane liye

Yeh masti ke nazaare hain To aise mein
sambhalna kaisa meri kasam Jo lehraati
dagariya ho to phir kyun na
Chaloon mai behka, behka re

Mere jeevan mein yeh shaam aayi hai
Mohabbat waale zamane liye
Ho chala jaata hoon kisi ki dhun mein
Dhadakte dil ke taraane liye

Woh aalam bhi ajab hoga
Woh jab mere kareeb aayegi meri kasam
Kabhi bahiyan chhuda legi
Kabhi hans ke gale se lag jaayegi haye
Meri baahon mein machal jaayegi
Woh sachche jhoothe bahaane liye
Ho chala jaata hoon kisi ki dhun mein
Dhadakte dil ke taraane liye

Baharon mein, nazaron me, nazar daaloon
To aisa laage meri kasam
Woh nainon mein bhare kaajal ghooghat khole
Khadi hai mere aage re
Sharam se bojhal jhuki palkon mein
Jawan raaton ke fasane liye

Ho chala jaata hoon kisi ki dhun mein
Dhadakte dil ke taraane liye
Milan ki masti bhari aankhon mein
Hazaron sapne suhaane liye
Chala jaata hoon kisi ki dhun mein
Dhadakte dil ke taraane liye

चला जाता हूँ किसी की धून में
धड़कते दिल के तराने लिए
चला जाता हूँ किसी की धून में
धड़कते दिल के तराने लिए

मिलन की मस्ती भरी आखों में
हज़ारो सपने सुहाने लिए
हो, चला जाता हूँ किसी की धून में
धड़कते दिल के तराने लिए

ये मस्ती के नज़ारे हैं
तो ऐसे में संभलना कैसा मेरी कसम
जो लहराती डगरिया हो तो फिर क्यूँ
ना चलू मैं बहका-बहका रे

मेरे जीवन में ये शाम आई हैं
मोहब्बत वाले जमाने लिए
हो, चला जाता हूँ किसी की धून में
धड़कते दिल के तराने लिए

वो आलम भी अजब होगा
वो जब मेरे करीब आएगी, मेरी कसम
कभी बैयाँ छुड़ा लेगी
कभी हँस के गले से लग जाएगी, हाए

मेरी बाहों में मचल जाएगी
वो सच्चे झूठें बहाने लिए
हो, चला जाता हूँ किसी की धून में
धड़कते दिल के तराने लिए

बहारों में, नज़ारों में
नज़र डालूँ तो ऐसा लागे, मेरी कसम
वो नैनों में भरे काजल
घूँघट खोले खड़ी है, मेरे आगे रे
शरम से बोझल झूकी पलकों में
जवाँ रातों के फसाने लिए

हो, चला जाता हूँ, किसी की धून में
धड़कते दिल के तराने लिए
मिलन की मस्ती भरी आखों में
हज़ारो सपने सुहाने लिए
हो, चला जाता हूँ किसी की धून में
धड़कते दिल के तराने लिए